Site icon Siba_Photography

•Tum kab aogey…तुम कब आओगे•

#CreativeSiba presentation

•Tum kab aogey…Tum kab aogey

तुम कब आओगे…तुम कब आओगे•

Aaj Janey ki zid na koro आज जाने की ज़िद ना कोरो

Subah ki khusnuma mausam ki tarah ayi hoशूबाह की ख़ुशनुमा मौसम की तरह आयी हो

Kya pata kal ho ya na ho क्या पता काल हो या ना हो

Wo barish ki bundey sardi ke raton ki वो बारिश की बूँदें शरदी कि रातों कि

Tum na na karte hue rat var तुम ना ना करते हुए रात भर

baho me bahain daley jhumti hui बहो में बाँहें डाले झूमती हुई

lehrati hui hawa ke sath sath लहरती हुई हवा के साथ साथ

mere kandho per apni sir rakhte hue मेरे कंधो पर अपनी शीर रखते हुए

Kano mey wo tumhari meethi meethi awaz कानो में वो तुम्हारी मीठी मीठी आवाज़ Ab bhi mujhe pagal kar deti hai अब भी मुझे पागल कर देती है

Wo COFFE house ki lamhey वो कॉफ़ी हाउस की लम्हे

Ab bhi mujhe yad hai अब भी मुझे याद है Bas intezar….aur intezar बस इंटेजर….और इंटेजर

Tum kab aaoge tum kab aogey

तुम कब आओगे…तुम कब आओगे

#CreativeSiba

Poeticशिबा

Exit mobile version